yuva lekhak(AGE-16 SAAL)

Just another weblog

79 Posts

134 comments

somansh surya


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

लोकसभा चुनाव मेँ युवा पीढी का योग्यदान

Posted On: 25 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

जहर बांटने वाले

Posted On: 23 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

गिलानी के ‘मो दी कार्ड ’ का रहस्य

Posted On: 23 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

टोपी पर सियासत सोची-समझी रणनीति

Posted On: 21 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

question on division of muslim vote bank

Posted On: 20 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

थप्पड़ पर स्वतंत्र शोध

Posted On: 20 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

संजय बारु की किताब से उठे सवाल

Posted On: 20 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

बौद्धिकता पर हमला पतन का संकेत

Posted On: 19 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

बदहाली को मारो गोली …!

Posted On: 19 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

पूर्णाहुति से पूर्व चिंतन की बेला

Posted On: 16 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Page 2 of 8«12345»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: surendrapala surendrapala

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: surendrapala surendrapala

के द्वारा: aniketsingh aniketsingh

के द्वारा: aniketsingh aniketsingh

के द्वारा: aniketsingh aniketsingh

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: bikasbhatiya bikasbhatiya

के द्वारा: bikasbhatiya bikasbhatiya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: rameshsharma rameshsharma

के द्वारा: rameshsharma rameshsharma

के द्वारा: rameshsharma rameshsharma

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: rajeevteja rajeevteja

के द्वारा: rajeevteja rajeevteja

के द्वारा: rajeevteja rajeevteja

के द्वारा: rajeevteja rajeevteja

के द्वारा: abhishekrajput abhishekrajput

के द्वारा: nidhishk nidhishk

के द्वारा: nidhishk nidhishk

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: nidhishk nidhishk

के द्वारा: nidhishk nidhishk

के द्वारा: nidhishk nidhishk

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: abhishekrajput abhishekrajput

के द्वारा: abhishekrajput abhishekrajput

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: somansh surya somansh surya

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

भाषा का संबंध हृदय के भाव से तो लिपि का संबंध मस्तिष्क से होता है। जो लोग रोमन लिपि में हिन्दी लिखना चाहते हैं उनकी निराशाओं को समझ सकते। बहुत प्रयास के बावजूद हिन्दी आम भारतीय की भाषा है। यह अलग बात है कि हिन्दी बाज़ार अंग्रेजीदांओं के कब्जे में है। दरअसल मोबाइल पर एसएमएस लिखवाने के लिये यह बाज़ार विशेषज्ञ अपने प्रायोजित विद्वानों को सक्रिय किये हुए हैं जो रोमन लिपि को यह स्थाई रखना चाहते हैं। उनको लगता है कि बस, रोमन लिपि में यहां का आम आदमी अपना एसएमएस कर अपने हाथ बर्बाद करे। याद रहे कि अधिक एसएमएस करने से लोगों के हाथ बीमार होने की बात भी सामने आ रही है। यह एसएमएस की प्रथा नयी है इसलिये अभी चल रही है और एक दिन लोग इससे बोर हो जायेंगे तब यह रोमन का भूत भी उतर जायेगा। वैसे अनेक लोग यह भी कोशिश कर रहे हैं कि रोमन लिपि से ही ऐसे संदेश हों। बहुत सही आलेख

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: somansh surya somansh surya

देश में मनोरोगों के बढ़ने की बात स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्वीकार भी करते हैं पर इसके निवारण का कोई बड़ा प्रयास हो भी नहीं रहा। योग साधन का ज्ञान देने वाले अनेक आचार्य अपने प्रचार में दैहिक स्वास्थ्य की बात तो करते हैं पर मानसिक रोगों से निजात पाने की बात कहने में उनकी हिचक साफ देखी जा सकती हैं। उन्हें अपने सामने उपस्थित लोगों के सामने मनोरोगों के निवारण की बात कहते हुए शायद संकोच इसलिये होता है कि कहीं लोग उनसे नाराज न हो जायें। हालांकि हम यह लेख योग साधना के प्रचार के लिये नहीं लिख रहे। साथ ही यह भी बता दें कि योग साधना से ही कोई ज्ञानी या मानसिक रूप से परिपक्व हो जाये यह जरूरी नहीं है। हम जिन मनोरोगों की बात कर रहे हैं वह आधुनिक भौतिक साधनों के उपयोग से ही बढ़े है। खासतौर से कंप्यूटर और मोबाइल के उपयोग ने लोगों की दिमागी स्थिति को बिगाड़ दिया है। कंप्यूटर और मोबाइल के उपयोग के खतरे पश्चिमी स्वास्थ्य विशेषज्ञ पहले ही बता चुके हैं। कंप्यूटर जहां शहरी सभ्यता तक सीमित है वहीं मोबाइल फोन का जाल तो गांवों तक भी फैल चुका है। कंप्यूटर जहां सीमित रूप से शिक्षित तथा धनी लोगों में अपनी बीमारी फैला रहा है, तो मोबाइल हर वर्ग में मनोविकार पैदा कर रहा है। इस पर विश्लेषण करना जरूरी है। मोबाइल के बारे में स्पष्ट रूप से स्वास्थ्य विशेषज्ञ कह चुके हैं कि उसकी गर्मी मनुष्य के मस्तिष्क को विकृत तक कर सकती है। अलग और अनूठे विषय पर बढ़िया लेखन दिया है आपने !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rkshahabadee rkshahabadee

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: somanshsurya somanshsurya

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: rahulraaz rahulraaz

के द्वारा: somanshsurya1 somanshsurya1




latest from jagran